Type Here to Get Search Results !

मुख्यमंत्री आत्मनिर्भर गुजरात योजना | Atmanirbhar Gujarat Yojana.


मंमुख्यत्री आत्मनिर्भर गुजरात योजना | Atmanirbhar Gujarat Yojana.

गुजरात के मुख्यमंत्री भूपेंद्र पटेल जी ने 5 अक्टूबर 2022 बुधवार,उद्योगों को बढ़ावा देने |
गुजरात के मुख्यमंत्री भूपेंद्र पटेल जी ने 5 अक्टूबर 2022 बुधवार के दिन अपने राज्य में उद्योगों को बढ़ावा देने के लिए मुख्यमंत्री आत्मनिर्भर गुजरात योजना की शुरुआत की है‌। Atmanirbhar Gujarat Yojana की शुरुआत प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी के 75वें गणतंत्रता दिवस पर ‘आजादी का अमृत महोत्सव’ के तहत आत्मनिर्भर भारत बनाने हेतु लिए गए आह्वान को स्वीकार करते हुए की गई है।
इस योजना के माध्यम से उद्योगों को अनेकों तरह की सहायता और प्रोत्साहन देने के साथ-साथ राज्य में विनिर्माण को बढ़ावा दिया जाएगा। ताकि राज्य के उद्योगों विशेष सहायता प्राप्त करके वैश्विक आपूर्ति श्रंखला का हिस्सा बन सके। अब आप गुजरात सरकार द्वारा शुरू की गई इस नई योजना के बारे में सभी महत्वपूर्ण जानकारियां जानने के इच्छुक होंगे। इसके लिए आप सिर्फ हमारे इस लेख को अंत तक अवश्य पढ़ें। क्योंकि हम आपको अपने इस लेख के माध्यम से Mukhyamantri Atmanirbhar Gujarat Yojana के बारे में सभी जानकारियां आसान शब्दों में समझाने जा रहे हैं।

Mukhyamantri Atmanirbhar Gujarat Yojana 2023

गुजरात के सीएम भूपेंद्र पटेल जी के द्वारा मुख्यमंत्री आत्मनिर्भर गुजरात योजना (द आत्मनिर्भर गुजरात स्कीम्स फॉर असिस्टेंस टू इंडस्ट्रीज) को शुरू किया गया है। इस योजना का लक्ष्य उद्योगों की ओर निवेशकों को आकर्षित करके 12.50 लाख करोड़ रुपए का निवेश करवाकर गुजरात में 15 लाख नए रोजगार के अवसर उत्पन्न करना है। इस योजना के बारे में बताते हुए मुख्यमंत्री जी ने कहा है कि ” MSME को 10 वर्षों में निश्चित पूंजी निवेश पर 75 फीसदी तक शुद्ध एसजीएसटी प्रतिपूर्ति, सूक्ष्म उद्योगों को 35 लाख रुपये तक की पूंजीगत सब्सिडी और MSME को 7 साल तक 35 लाख रुपये प्रतिवर्ष तक की ब्याज सब्सिडी मिलेगी।”
 Mukhyamantri Atmanirbhar Gujarat Yojana 
आने वाले सालों में स्थानीय उत्पादों को सहयोग प्रदान करके रोजगार और मैन्युफैक्चरिंग क्षेत्र में गुजरात को आत्मनिर्भर बनाएगी।
मुख्यमंत्री आत्मनिर्भर गुजरात योजना =Features
योजना का नाम Atmanirbhar Gujarat Yojana
शुरू की गई सीएम भूपेंद्र पटेल जी के
आरंभ तिथि 5 अक्टूबर 2022
लाभार्थी राज्य के लोग
उद्देश्य गुजरात को आत्मनिर्भर बनाना
साल साल
राज्य गुजरात
आवेदन प्रक्रिया अभी ज्ञात नहीं है
अधिकारिक वेबसाइट जल्द ही लांच की जाएगी
निवेश के जोखिम को कम करके निवेशकों को किया जाएगा आकर्षित
राज्य सरकार द्वारा मुख्यमंत्री आत्मनिर्भर गुजरात योजना में उद्यमियों के निवेश के जोखिम कोकम किया जाएगा। जिसके लिए उद्यमियों को उद्यमशीलता तथा उनकी अपेक्षाओं को ओर अधिक प्रोत्साहित करके निवेश के जोखिमों को कम करने का काम किया जाएगा। राज्य में Atmanirbhar Gujarat Yojana के माध्यम से उद्यमियों के लिए नया वातावरण तैयार किया जाएगा। साथ ही युवा उद्यमियों को नवाचार के माध्यम से नौकरी देने वाला (Job Creator) बनाने के लिए प्रेरित किया जाएगा। यह योजना उभरते हुए उद्यमियों की उद्यमिता आकांक्षाओं को पूरा करेगी और गुजरात के उद्योगों को विश्व के साथ प्रतिस्पर्धा में खड़ा करेगी।
12 लाख करोड़ के निवेश को प्रोत्साहित करके उत्पन्न किए जाएंगे 15 लाख रोजगार
मुख्यमंत्री आत्मनिर्भर गुजरात योजना के माध्यम से आने वाले समय में गुजरात देश के मैन्युफैक्चरिंग परिदृश्य में आत्मनिर्भरता से अपना विशेष स्थान बनाएगा। एक अनुमान के मुताबिक इस योजना के अंतर्गत राज्य में 12.50 लाख करोड़ों रुपए का निवेश आएगा और साथ ही 15 लाख नए रोजगार के अवसर उत्पन्न होंगे जिससे बेरोजगार युवाओं को रोजगार प्राप्त होगा। इस समय देश में मैन्युफैक्चरिंग उत्पादन में गुजरात की लगभग 33 लाख एमएसएमई इकाइयों का सबसे बड़ा योगदान है। इसके अलावा निर्यात के मामले में भी गुजरात देश भर में अग्रणी है। अब इस योजना के शुरू हो जाने के बाद से गुजरात के उद्योगों को विशेष सहायता प्राप्त होगी जिससे वह बड़े स्तर पर वैश्विक आपूर्ति श्रंखला का हिस्सा बनेंगे।
Mukhyamantri Atmanirbhar Gujarat Yojana के तहत छोटे-बड़े उद्योगों का तैयार होगा इकोसिस्टम
इस योजना के माध्यम से न्यू मैन्युफैक्चरिंग सेक्टर का विकास होगा। जिससे अनुषांगिक छोटे-बड़े उद्योगों का एक पूरा इकोसिस्टम तैयार होगा जो मैन्युफैक्चरिंग सेक्टर में वैश्विक मिसाल बनेगा। इसके अलावा सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्योग (MSME), लार्ज और मेगा इंटरप्राइजेज को मिलने वाले एम्प्लॉयमेंट लिंक्ड इंसेंटिव्स यानी रोजगार से जुड़े प्रोत्साहनों से राज्य में इंडस्ट्रियल वर्क फोर्स तैयार करने में भी गति आएगी।
मुख्यमंत्री आत्मनिर्भर गुजरात योजना का उद्देश्य
गुजरात सरकार का इस योजना को शुरू करने का मुख्य उद्देश्य प्रधानमंत्री जी के आत्मनिर्भर भारत आह्वान को पूरा करने में अपना योगदान देना है। आत्मनिर्भर गुजरात योजना के द्वारा राज्य में उद्योगों को विभिन्न प्रकार की सहायता और प्रोत्साहन दिया जाएगा। जिसकी सहायता से निवेशकों को आकर्षित करके 12.50 लाख करोड रुपए का निवेश करवाया जाएगा। जिसके माध्यम से 15 लाख युवाओं के लिए उद्योगों में रोजगार के अवसर सर्जन होंगे। यह योजना एक तरफ राज्य में उद्योगों को बढ़ावा देखकर मैन्युफैक्चरिंग क्षेत्र में गुजरात को आत्मनिर्भर बनाएगी दूसरी तरफ बेरोजगार युवाओं को रोजगार प्रदान करवाएगी। द आत्मनिर्भर गुजरात स्कीम्स फॉर असिस्टेंस टू इंडस्ट्रीज की सबसे बड़ी खास बात यह है कि इसमें उद्यमियों के निवेश के जोखिम को कम किया जाएगा। इसके अलावा उद्यमियों के लिए नया वातावरण भी तैयार किया जाएगा।
Atmanirbhar Gujarat Yojana के लाभ
सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्योग को नेट एस.जी.एस.टी. रिइंबर्समेट (प्रतिपूर्ति) के तहत उद्योगों को स्थायी पूंजी निवेश का 75% तक, 10 वर्षों तक मिलेगा
एमएसएमई के लिए 7 वर्षों तक 35 लाख रुपए तक की वार्षिक ब्याज सब्सिडी
महिलाओं/युवाओं/दिव्यांग उद्यमियों के लिए अतिरिक्त इंसेंटिव्स
10 वर्षों के लिए ईपीएफ रिइंबर्समेंट
5 सालों के लिए बिजली शुल्क से छुटकारा
माइक्रो इंडस्ट्रीज के लिए 35 लाख रुपए तक की कैपिटल सब्सिडी
बड़े उद्योगों को 10 सालों के लिए ईपीएफ रिइंबर्समेट
बड़े उद्योगों को स्थाई पूंजी निवेश पर 12 फीसदी कुल ब्याज सब्सिडी
नेट एसजीएसटी रिइंबर्समेंट के तहत उद्योगों को स्थाई पूंजी इमेज का 75 फीसदी तक, 10 सालों तक प्राप्त होगा
विद्युत शुल्क से 5 सालों के लिए छुटकारा यानी उद्योगों को 5 सालों तक बिजली के बिल का भुगतान नहीं करना होगा
Mukhyamantri Atmanirbhar Gujarat Yojana की विशेषताएं
 गुजरात के सीएम भूपेंद्र पटेल जी के द्वारा मुख्यमंत्री आत्मनिर्भर गुजरात योजना को शुरू किया गया है।
प्रधानमंत्री जी ने 75वें गणतंत्रता दिवस पर”आजादी का अमृत महोत्सव” के अंतर्गत आत्मनिर्भर भारत बनाने का आह्वान किया है। अब प्रधानमंत्री जी के इसी आह्वान को स्वीकार करते हुए गुजरात के मुख्यमंत्री ने आत्मनिर्भर गुजरात योजनाकी शुरुआत की है।
इस योजना के तहत MSME को 10 वर्षों में निश्चित पूंजी निवेश पर 75 फीसदी तक शुद्ध एसजीएसटी प्रतिपूर्ति, सूक्ष्म उद्योगों को 35 लाख रुपये तक की पूंजीगत सब्सिडी और MSME को 7 साल तक 35 लाख रुपये प्रतिवर्ष तक की ब्याज सब्सिडी मिलेगी।
गुजरात में इस योजना के माध्यम से उद्योगों को विभिन्न प्रकार की सहायता और प्रोत्साहन देने के साथ-साथ विनिर्माण को बढ़ावा दिया जाएगा।
Mukhyamantri Atmanirbhar Gujarat Yojana 
गुजरात के स्थानीय उत्पादों को सहयोग प्रदान करके रोजगार और मैन्यूफैक्चरिंग क्षेत्र को बढ़ावा देगी। जिससे उद्योग वैश्विक आपूर्ति श्रंखला का हिस्सा बनेगे ।
राज्य में इस योजना के माध्यम से 12 .50 लाख करोड़ के निवेश को प्रोत्साहित करके 15 लाख रोजगार के अवसर उत्पन्न किए जाएंगे।
यह योजना उद्यमियों को नवाचार के माध्यम से नौकरी देने वाला बनाने के लिए प्रेरित करेगी और उभरते हुए उद्यमियों की उद्यमिता की आकांक्षाओ को पूरा करेगी। जिससे गुजरात के उद्योग विश्व के साथ प्रतिस्पर्धा में खड़े हो सकेंगे।
Atmanirbhar Gujarat Yojana के तहत आवेदन कैसे करें?
राज्य के जो इच्छुक युवा उद्यमी मुख्यमंत्री आत्मनिर्भर गुजरात योजना के तहत अपना आवेदन करना चाहते हैं उन्हें अभी थोड़ा इंतजार करना होगा। 5 अक्टूबर 2022 को गुजरात के मुख्यमंत्री भूपेंद्र पटेल जी के द्वारा इस योजना को शुरू किया गया है। जल्द ही सरकार योजना के तहत आवेदन प्रक्रिया के लिए अधिकारिक वेबसाइट को खोलने जा रही हैं। जब सरकार इस योजना के तहत आवेदन करने के लिए आधिकारिक वेबसाइट को खोल देगी, हम आपको अपने इस लेख के माध्यम से अपडेट कर देंगे। इसलिए आपसे निवेदन है कि आवेदन प्रक्रिया की अपडेट प्राप्त करने के लिए हमारे इस लेख के साथ जुड़े रहे।

Atmanirbhar Gujarat Yojana.
Atmanirbhar Gujarat Yojana.


एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ